On the lines of Shaheenbagh, women staged a protest near Jafrabad metro station, Salimpur-Yamuna Vihar Road Block | शाहीनबाग की तर्ज पर जाफराबाद मेट्रो स्टेशन के पास महिलाओं ने दिया धरना, सलीमपुर-यमुना विहार रोड ब्लॉक

  • मेट्रो स्टेशन पर मेट्रो का ठहराव रोका, सलीमपुर रोड हुई ब्लॉक
  • भीम आर्मी का दावा- उनके कहने पर जुटी महिलाएं

Dainik Bhaskar

Feb 23, 2020, 11:00 AM IST

नई दिल्ली. नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ शाहीनबाग की तर्ज पर शनिवार देर रात से 500 से अधिक महिलाओं के हुजूम ने दिल्ली के जाफराबाग मेट्रो स्टेशन के पास सलीमपुर रोड पर भी धरना शुरू कर दिया है। भीम आर्मी का दावा है कि यह धरना प्रदर्शन उनके आह्वान पर शुरू हुआ है। भीम आर्मी ने रविवार को भारत बंद का आह्वान किया था। महिलाओं के प्रदर्शन के चलते दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन ने जाफराबाद स्टेशन पर मेट्रो ट्रेनों के ठहराव पर रोक लगा दी है और मेट्रो स्टेशन के अंदर जाने और बाहर आने वाले दोनों गेट को भी बंद कर दिया गया है। वहीं दूसरी ओर करदामपुरी में भी कुछ महिलाओं ने प्रदर्शन शुरू कर दिया है। 

सलीमपुर से यमुना विहार और मौजपुर जाने वाली सड़कें बंद
महिलाओं के प्रदर्शन के चलते सलीमपुर को यमुना विहार और मौजपुर से जोड़ने वाली सड़कें भी बंद हो गई हैं। सुरक्षा के मद्देनजर मौके पर भारी संख्या में पुलिस बल तैनात की गई है।
 
हाथों में तिरंगा, जुबां पर आजादी के नारे
प्रदर्शनकारी महिलाएं हाथों में तिरंगा लेकर आजादी के नारे लगा रही हैं। महिलाओं का कहना है कि जबतक केंद्र सरकार नागरिकता संशोधन बिल वापस नहीं लेती तबतक वह प्रदर्शन जारी रखेंगी। खुद को सामाजिक कार्यकर्ता बताने वाले फहीम बेग ने बताया सरकार इस मुद्दे को लेकर काफी लापरवाही बरत रही है। इससे लोगों का गुस्सा और भी बढ़ते जा रहा है। 

शाहीनबाग में प्रदर्शन का 71वां दिन
शाहीन बाग में नागरिकता कानून के खिलाफ जारी प्रदर्शन का आज 71वां दिन है। इसके पहले शनिवार को सड़क खोलने और बंद करने का नजारा देखने को मिला। प्रदर्शनकारियों के एक धड़े ने रास्ता खोलकर स्थानीय लोगों को जाने दिया। थोड़ी ही देर बाद दूसरे गुट ने वहां पहुंचकर रास्ता फिर बंद कर दिया। कालिंदी कुंज की सड़क नंबर 9 पर एक बार फिर बैरिकेडिंग दिखी। इस घटनाक्रम की पुष्टि दिल्ली पुलिस के साउथ ईस्ट डीसीपी आरपी मीणा ने की।

मध्यस्थों से चौथे दिन की वार्ता भी रही विफल 
इससे पहले, सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त मध्यस्थ वकील संजय हेगड़े और वकील साधना रामचंद्रन लगातार चौथे दिन शनिवार को शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों से बातचीत करने पहुंचे। उन्होंने कहा- हम नहीं चाहते कि शाहीन बाग का आंदोलन खत्म हो जाए। हम चाहते हैं कि शाहीन बाग कायम रहे। हम सड़क खाली करने के मुद्दे पर बात करने आए हैं। उन्होंने कहा- आप लोग आंदोलन जारी रखें। आप गृह मंत्री या सरकार जिससे भी मिलना चाहें, मिल सकते हैं। हम यहां सरकार की ओर से नहीं आए। वहीं, प्रदर्शनकारियों ने पिछले दो महीने में घटी घटनाओं की जांच कराने और सुरक्षा के लिए प्रदर्शन स्थल की स्टील शीट से घेराबंदी की मांग की। 
 


Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *