Sachin Tendulkar: Pakistan Inzamam-ul-Haq On Sachin Tendulkar Googly Bowling | इंजमाम ने कहा- सचिन मेरे लिए सबसे खतरनाक बॉलर, लेकिन दुख है कि वे युवाओं को कुछ नहीं सिखाते

  • पूर्व पाकिस्तानी कप्तान इंजमाम उल हक के मुताबिक, सचिन तेंदुलकर की गुगली पढ़ना सबसे मुश्किल काम
  • चीफ सिलेक्टर इंजमाम ने कहा- अब्दुल कादिर ने सचिन को उकसाया था, इसके बाद उन्हें चार छक्के खाने पड़े

Dainik Bhaskar

Feb 26, 2020, 08:00 AM IST

खेल डेस्क. पाकिस्तान के पूर्व कप्तान इंजमाम उल हक के मुताबिक, सचिन तेंदुलकर जितने महान बल्लेबाज थे, उतने ही खतरनाक बॉलर भी थे। इंजमाम ने कहा- मैंने दुनिया के तमाम लेग स्पिनर्स को खेला। किसी की गुगली पढ़ने में मुझे कभी दिक्कत नहीं आई। एक सचिन ऐसा था जो गुगली करता था तो मैं परेशान हो जाता था। यही वजह है कि उसने मुझे कई बार आउट किया।

इंजी के नाम से मशहूर इस पूर्व मिडल ऑर्डर बल्लेबाज को सचिन से एक शिकायत भी है। उनके मुताबिक, सचिन ने युवाओं को खेल की बारीकियां नहीं सिखाईं। 

कादिर ने सचिन को उकसाया था
इंजमाम ने अपने यूट्यूब चैनल पर सचिन के बारे में पूरा एक एपिसोड किया। कहा, “अगर महान से भी बड़ा कोई शब्द है तो मैं वो सचिन के लिए इस्तेमाल करूंगा। 16 साल की उम्र में उसने इमरान, वकार और अकरम जैसे गेंदबाजों का सामना किया। मुझे नहीं लगता कि कोई उसके करीब भी आ पाएगा। डेब्यू सीरीज के एक मैच में वो पेशावर में बैटिंग कर रहा था। उसने मुश्ताक अहमद की गेंद पर एक छक्का मारा। तभी दुनिया के महानतम लेग स्पिनर्स में से एक अब्दुल कादिर उसके पास गए। कहा- बच्चे को मार रहे हो। मुझे मारकर दिखाओ। सचिन बोला कुछ नहीं। अगले ओवर में उनसे कादिर को चार छक्के मारे।”

सचिन ने युग बदल दिया
इंजमाम ने कहा, “सचिन उस दौर में खेला जब कोई भी महान बल्लेबाज 8 हजार से ज्यादा स्कोर नहीं कर पाता था। अपवाद के तौर पर आप सुनील गावस्कर का नाम ले सकते हैं। उन्होंने 10 हजार रन बनाए। लेकिन, सचिन की तरफ देखिए। उसने 35 हजार रन बनाए। अब देखने वाली बात होगी कि उसका रिकॉर्ड कौन तोड़ता है। दुनिया में सचिन से ज्यादा फैन किसी खिलाड़ी के नहीं होंगे। वो बॉलर नहीं था। लेकिन, जब गेंद हाथ में होती थी तो वो मीडियर पेसर भी होता था और लेग स्पिनर भी।”

सचिन से सिर्फ एक शिकायत और गुजारिश
आखिर में इंजमाम ने सचिन को संदेश दिया। कहा, “इस महान प्लेयर से मुझे एक गिला या कहें शिकायत है। इसके पास जो योग्यता और प्रतिभा थी, वो इसने लोगों के साथ शेयर नहीं की। क्रिकेट से ऐसे दूर होना कि अपना अनुभव किसी और खासकर युवाओं से शेयर न करना, ये सही नहीं है। मुझे लगता है कि सचिन को इस बारे में सोचना चाहिए।”


Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *