TV makers get clearance to import big-sized premium sets | त्योहारी सीजन में खरीदें मनचाही प्रीमियम सेगमेंट के TV; सरकार ने दी टेलीविजन मैन्यूफैक्चरर्स को आयात की मंजूरी, सैमसंग बनाएगी भारत में टीवी

नई दिल्लीएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक
  • सरकार के इस फैसले के बाद बाजार में प्रीमियम टीवी सेट की उपलब्धता बढ़ जाएगी
  • कई कंपनियां 55 इंच या उससे बड़ी स्क्रीन वाले टेलीविजन सेट का आयात करती हैं

सरकार ने सैमसंग, एलजी और सोनी जैसे प्रमुख टेलीविजन मैन्यूफैक्चरर्स को पहले से तैयार टीवी सेट के आयात का लाइसेंस दिया है। टीवी इंडस्ट्री से जुड़े लोगों का कहना है कि सरकार के इस फैसले से उन्हें बड़ी राहत मिली है, क्योंकि त्योहारी मौसम में मांग गति पकड़ रही है। ये टीवी मैन्युफैक्चरर महंगे प्रीमियम सेगमेंट के टेलीविजन सेट के लिए आयात पर निर्भर हैं। कई कंपनियां 55 इंच या उससे बड़ी स्क्रीन वाले टेलीविजन सेट का आयात करती हैं।

प्रीमियम टीवी सेट की उपलब्धता बढ़ जाएगी

सोनी इंडिया के प्रबंध निदेशक सुनील नैय्यर ने कहा है कि हमारे बड़ी स्क्रीन वाले टेलीविजन पोर्ट्स पर अटक गए थे, लेकिन अब हमें सरकार से लाइसेंस मिल गया है। सरकार के इस फैसले के बाद बाजार में प्रीमियम टीवी सेट की उपलब्धता बढ़ जाएगी और त्योहारी सीजन के दौरान मांग को पूरा करने में मदद मिलेगी।

सैमसंग को भी मिला लाइसेंस

दक्षिण कोरियाई विनिर्माता एलजी इलेक्ट्रॉनिक्स ने भी लाइसेंस मिलने की पुष्टि की है। कंपनी के एक अधिकारी ने कहा कि हमें सरकार से लाइसेंस मिल गया है और हमारी खेप जारी कर दी गई है। सूत्रों के अनुसार दक्षिण कोरियाई टीवी मैन्यूफैक्चरिंग कंपनी सैमसंग को भी टीवी सेट के आयात के लिए लाइसेंस मिल गया है और इससे कंपनी पोर्ट्स पर फंसी खेप को बाजार में ला सकेगी।

सैमसंग बनाएगी भारत में टीवी

सैमसंग इंडिया दिसंबर से भारत में टीवी सेटों का उत्पादन शुरू कर देगी। बता दें कि खबर यह थी कि सैमसंग ने सरकार से कहा था कि जब तक वह भारत में टीवी का उत्पादन शुरू नहीं कर देती है, उसे टीवी सेट आयात करने की अनुमति चाहिए। सैमसंग सबसे बड़ी उपभोक्ता इलेक्ट्रॉनिक्स कंपनियों में से एक है। घरेलू मैन्युफैक्चरिंग बढ़ाने के लिए सरकार ने कुछ दिनों पहले रंगीन टेलीविजन के आयात पर गुरुवार को प्रतिबंध लगा दिया। इस कदम का उद्देश्य टेलीविजन के घरेलू विनिर्माण को बढ़ावा देना और चीन जैसे देशों से गैर-जरूरी वस्तुओं के आयात को कम करना है।


Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *