What Will Be Master Plan Of Indian Cricket Team In Christchurch Test Match – आखिर किस रणनीति के साथ उतरेगा भारत, क्या दूसरा टेस्ट जीतकर लाज बचा पाएगी ‘विराट सेना’

भारत बनाम न्यूजीलैंड
– फोटो : ट्विटर

ख़बर सुनें

अजिंक्य रहाणे चाहते हैं कि उनके बल्लेबाज न्यूजीलैंड के खिलाफ दूसरे टेस्ट क्रिकेट मैच में तेज गेंदबाजों का मजबूत इरादों के साथ सामना करें और उस कोण से उठती गेंदों को समझे जो वेलिंगटन में पहले टेस्ट मैच में उनके लिए बुरा सपना बन गई थी।

रहाणे ने पहले टेस्ट की पहली पारी में सर्वाधिक 46 रन बनाए थे और उन्होंने उम्मीद जताई कि हेगली ओवल की पिच पर घास होने के बावजूद उनकी टीम वापसी करेगी। रहाणे ने गुरुवार को पत्रकारों से कहा, ‘मैं यह नहीं कह रहा हूं कि हमें अधिक आक्रामक होना चाहिए, लेकिन मजबूत इरादे और स्पष्ट मानसिकता से हमें मदद मिलेगी।’

न्यूजीलैंड के तेज गेंदबाजों ट्रेंट बोल्ट, टिम साउदी और काइल जेमिसन ने क्रीज के कोण का इस्तेमाल करते हुए शार्ट पिच गेंदें की थी जिससे भारतीय बल्लेबाज नहीं समझ पाए थे। रहाणे ने कहा, ‘मुझे लगता है कि वेलिंगटन में उन्होंने उस कोण का बहुत अच्छा इस्तेमाल किया। क्रीज के बाहरी कोण से यह बीच से गेंदबाजी करना। शॉर्ट पिच गेंद करते समय वे कोण बदल रहे थे। मेरा मानना है कि उनकी रणनीति स्पष्ट थी।’

भारतीय उपकप्तान ने कहा, ‘एक बल्लेबाज के रूप में अगर आप किसी खास शाट के बारे में सोचते तो आपको खुद पर भरोसा रखकर वह शॉट खेलना चाहिए। आप खुद पर संदेह नहीं कर सकते। वेलिंगटन में जो कुछ हुआ हमें उसे भूलने की जरूरत है।’

रहाणे के अनुसार यहां दो नेट सत्र का उपयोग उस कोण से सामंजस्य बैठाने के लिए किया जा रहा है जिसका नील वैगनर ऐंड कंपनी उपयोग कर सकती है। उन्होंने कहा, ‘मैंने यही कहता हूं कि कोशिश करो और एक टीम के रूप में हमने जो गलतियां की उनसे सबक लो। हमें उस कोण का अभ्यास करना होगा। हमने अभ्यास सत्र में भाग लिया और कल एक और अभ्यास सत्र में हिस्सा लेंगे। आपको उसका अभ्यास करना होगा और क्रीज पर अपनी क्षमता पर भरोसा दिखाना होगा।’

चेतेश्वर पुजारा की पहले टेस्ट मैच की दूसरी पारी में 81 गेंदों पर 11 रन बनाने के लिए कड़ी आलोचना की गए। रहाणे ने इस बारे में कहा, ‘पुजारा अपनी तरफ से कोशिश कर रहा था वह असल में रन बनाने पर ध्यान दे रहा था, लेकिन बोल्ट-साउदी और अन्य गेंदबाजों ने ज्यादा मौके नहीं दिए। यह सभी बल्लेबाजों के साथ होता है। मेरे कहने का मतलब है कि सभी बल्लेबाज इस दौर से गुजरते हैं।’
 

न्यूजीलैंड के सलामी बल्लेबाज टॉम लाथम ने कहा है कि भारतीय कप्तान विराट कोहली को एक बार फिर से रोकने के लिए उनकी टीम ने खास रणनीति तैयार की है। कोहली न्यूजीलैंड दौरे पर अपने खराब फॉर्म से जूझ रहे हैं और उन्होंने दौरे की 9 पारियों में अब तक केवल 201 रन ही बनाए हैं। भारतीय कप्तान पहले टेस्ट में भी केवल 2 और 19 रन ही बना पाए थे।

लाथम ने कहा, मुझे लगता है कि जब विराट बल्लेबाजी करने के लिए निकलेंगे, तो हम तैयार होंगे। वह एक उच्च स्तरीय खिलाड़ी हैं और यही कारण है कि वह लंबे समय से विश्व रैंकिंग में नंबर एक रहे हैं। उन्होंने सभी परिस्थितियों में बेहतरीन प्रदर्शन किया है। सलामी बल्लेबाज ने साथ ही कहा कि चोट के कारण पहले टेस्ट मैच में नहीं खेलने वाले नील वेगनर के आने से गेंदबाजी में अधिक गहराई आएगी।

अजिंक्य रहाणे चाहते हैं कि उनके बल्लेबाज न्यूजीलैंड के खिलाफ दूसरे टेस्ट क्रिकेट मैच में तेज गेंदबाजों का मजबूत इरादों के साथ सामना करें और उस कोण से उठती गेंदों को समझे जो वेलिंगटन में पहले टेस्ट मैच में उनके लिए बुरा सपना बन गई थी।

रहाणे ने पहले टेस्ट की पहली पारी में सर्वाधिक 46 रन बनाए थे और उन्होंने उम्मीद जताई कि हेगली ओवल की पिच पर घास होने के बावजूद उनकी टीम वापसी करेगी। रहाणे ने गुरुवार को पत्रकारों से कहा, ‘मैं यह नहीं कह रहा हूं कि हमें अधिक आक्रामक होना चाहिए, लेकिन मजबूत इरादे और स्पष्ट मानसिकता से हमें मदद मिलेगी।’

न्यूजीलैंड के तेज गेंदबाजों ट्रेंट बोल्ट, टिम साउदी और काइल जेमिसन ने क्रीज के कोण का इस्तेमाल करते हुए शार्ट पिच गेंदें की थी जिससे भारतीय बल्लेबाज नहीं समझ पाए थे। रहाणे ने कहा, ‘मुझे लगता है कि वेलिंगटन में उन्होंने उस कोण का बहुत अच्छा इस्तेमाल किया। क्रीज के बाहरी कोण से यह बीच से गेंदबाजी करना। शॉर्ट पिच गेंद करते समय वे कोण बदल रहे थे। मेरा मानना है कि उनकी रणनीति स्पष्ट थी।’


आगे पढ़ें

खुद पर भरोसा रखकर खेलना चाहिए शॉट




Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *